विदेशी राजनयिकों का जम्मू-कश्मीर दौरा

अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद विदेशी राजनयिकों का एक नई टीम इस समय जम्मू कश्मीर के दौरे पर हैं। इस टीम में जर्मनी, कनाडा, फ्रांस और अफगानिस्तान के 25 राजनयिक हैं जो वहां बदली हुई परिस्थितियों में जमीनी हकीकत देखेंगे। इस टीम में पोलैंड, बुलगारिया, चेक रिपब्लिक के यूरोपीय संघ के प्रतिनिधि भी शामिल हैं। टीम के सदस्य यहां हर वर्ग से ताल्लुक रखने वाले स्थानीय लोगों से मुलाकात करेंगे और उनसे बातचीत करेंगे।

भारतीय सेना भी विदेशी राजनयिकों को कश्मीर में सुरक्षा हालात के बारे में जानकारी देगी। राजनयिकों की टीम उपराज्यपाल जीसी मुर्मू समेत नागरिक समाज समूहों से मिल भी सकती है। इनका ये दौरा इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि हाल ही में नागरिकता संशोधन अधिनियम और कश्मीर पर संयुक्त मसौदा प्रस्ताव लाने के लिए यूरोपीय संघ की संसद ने वोट दिया था, हालांकि बाद में उसे टाल दिया गया।

इसके अलावा अगले महीने ब्रसेल्स में भारत-यूरोपीय संघ सम्मेलन होने जा रहा है जिसमें विदेश मंत्री भारत की ओर से हिस्सा लेंगे। पिछले महीने अमेरिकी राजदूत समेत 15 देशों के राजनयिकों ने पिछले महीने जम्मू कश्मीर का दौरा किया था।
 



Post a comment