मछली पालन बना आमदनी का जरिया महेश्वरी को रोजगार गारंटी योजना से हुआ लाभ Maheshwari benefited from the income of fish farming by employment guarantee scheme

रायपुर, 13 फरवरी 2020/ जिला मुख्यालय कवर्धा से लगभग 70 किमी दूर सुदूर वनांचल क्षेत्र में बोड़ला विकासखण्ड के गांव बम्हनी का निवासी महेश्वरी और उसका परिवार रोजगार गारंटी योजना (Employment guarantee scheme) अंतर्गत डबरी निर्माण से नियमित रोजगार पा कर आत्मनिर्भर हो गए। महेश्वरी जिसका परिवार इस योजना के तहत पंजीकृत है, को जब यह मालूम हुआ कि उनके अपने भूमि पर डबरी का निर्माण हो सकता है तो मानो उनके लिए तरक्की की नई राह खुल गई। ग्राम पंचायत बम्हनी के ग्राम सभा में महेश्वरी और उसके पति काशी राम ने पंचायत में आवेदन करते हुए कहा की उन्हे अपने खेत में डबरी का निर्माण करना है। फिर क्या था ग्राम पचंायत ने नक्शा, खसरा सहित सभी जरूरी दस्तावेजों के साथ 1.57 लाख रूपए के लागत से डबरी निर्माण का कार्य स्वीकृत करा लिया। डबरी बनाने में 922 मानव दिवस का रोजगार सृजन हुआ, जिसमें 1.54 लाख रूपए मजदूरी पर व्यय किया गया और तीन हजार रूपए सामग्री पर व्यय हुआ। डबरी निर्माण में महेश्वरी उसके पति काशी राम एवं उनके पुत्र रवि कुमार पटले को 167 रूपए की दर से रोजगार मिल गया।

डबरी बनना आगे बढ़ने की शुरूआत थी। 40 बाई 40 के स्थान पर एक अच्छे डबरी बनने से रोजगार के साधन खुल गयें। काशी राम और उसके पुत्र रवि ने मछली पालन विभाग से संपर्क किया। अभिशरण के तहत आजीविका संवर्धन के लिए मछली पालन का प्रशिक्षण, जाल, एवं दवाईंयां निःशुल्क मिल गया। 2000 रूपए के रियायत दर पर छः किलो मछली का बीज विभाग ने उपलब्ध कराया। मछलियों के बीज जैसे ही बड़े हुए प्रत्येक सप्ताह 50 से 60 किलो मछली काशी राम और रवि ने बाजार में 140 के दर से बेचना शुरू कर दिया। पहले सप्ताह में ही लगभग 8400 रूपए की आमदनी हो गई। मछली बेचने से महेश्वरी और उसके परिवार को प्रत्येक सप्ताह अच्छी आमदनी होने लगी। अपने घर से कुछ रूपए लगाकर डबरी को और बड़ा तथा गहरा कर दिया गया। परिवार मछली पालन से अच्छी आमदनी कमा रहे हैं और अपनी जरूरतें पूरी कर रहे हैं। पूरे साल मछली पालन से स्थायी रोजगार का अवसर इन्हें मिल गया है।

श्रीमती महेश्वरी बताती है कि ‘‘इनके पास घर में एक छोटा सा डबरी पिता के बाड़ी में है। डबरी बनाकर मछली पालन करना ही हमने सोच रखा था। इस कारण पंचायत के माध्यम से हमको काम मिल गया। एक बड़ी डबरी मेंरे घर के सामने हीं बन गई। इसमें रोहू, कतला, मृगल, एवं बी ग्रेड जैसे मछलियों का पालन कर पास के बाजार में बेच रहे हैं। अब हर सप्ताह लगभग 3000 की आमदनी कमा रहे है। ‘‘

श्री काशी राम बताते है कि ‘‘हमारे डबरी से मछली मैं और मेरा बेटा रवि तथा घर के अन्य लोग मिलकर पकड़ते हैं। सरकार की मदद से डबरी बना लिए जिसमें काम करते हुए रोजगार मिल गया। मछली पालन के लिए जाल, दवाई जैसी जरूरी चीजे मुफ्त मिल गई और बेहतर किस्म का बीज बहुत ही कम दाम में मिला। हमको बहुत फायदा हो रहा है, क्योंकि पहले हम रोजी, मजदूरी करके अपना खर्च चलाते थे लेकिन अब एक दुकानदार बन गये है।‘‘

महेश्वरी के पुत्र श्री रवि कुमार पटेल, बताते है कि ‘‘मैं खुद अपने पिता के साथ बाजार जाकर मछलियां बेचता हुँ। 2 से 3 घण्टे हमें मछली पकड़ने में लगता है उसके बाद बाजार जाकर उसे बेच आते है। इससे हमे अच्छी आमदनी होती है जो पूरे सप्ताह हमारे घर खर्च को चलाने के लिए पर्याप्त है। रोजगार गारंटी योजना से हमको हमेशा के लिए डबरी के रूप में रोजगार का अवसर मिला है तथा हम अपनी आजीविका बेहतर तरीके से चला रहें है।

Post a comment