शक्कर कारखाना पण्डरिया में प्रदेश में शक्कर की सर्वाधिक रिकवरी का बना रिकार्ड Sugar factory Pandaria holds the record for highest sugar recovery in the state

राज्य सरकार की कुशल नीति और वन मंत्री श्री अकबर के सकारात्मक पहल से रिकार्ड हुआ सम्भव 

रायपुर, 16 फरवरी 2020. प्रदेश के कवर्धा जिले के अंतर्गत पण्डरिया में स्थित सरदार वल्लभभाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना ने राज्य के सभी चार शक्कर कारखानों में सर्वाधिक औसत शक्कर की रिकवरी का रिकार्ड कायम किया है। यह उपलब्धि राज्य सरकार की कुशल नीति तथा प्रबन्धन और वन तथा विधि-विधायी मंत्री श्री मोहम्मद अकबर राज्य सरकार की कुशल नीति और वन मंत्री श्री अकबर के सकारात्मक पहल से रिकार्ड हुआ सम्भव

रायपुर, 16 फरवरी 2020. प्रदेश के कवर्धा जिले के अंतर्गत पण्डरिया में स्थित सरदार वल्लभभाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना ने राज्य के सभी चार शक्कर कारखानों में सर्वाधिक औसत शक्कर की रिकवरी का रिकार्ड कायम किया है। यह उपलब्धि राज्य सरकार की कुशल नीति तथा प्रबन्धन और वन तथा विधि-विधायी मंत्री श्री मोहम्मद अकबर के लगातार सकारात्मक पहल के परिणामस्वरूप हासिल हुई है।

गौरतलब है कि प्रदेश का चौथा शक्कर कारखाना लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना पंडरिया के द्वारा वर्ष 2019-2020 में चालू सीजन के दौरान 79 दिन में 1 लाख 49 हजार 168 मीटरिक टन गन्ना की पेराई की गई है, जिसमें 1 लाख 53 हजार 575 क्विंटल शक्कर का उत्पादन किया गया है जिसकी औसत रिकवरी चालू सीजन में 10.40 आयी है। यह रिकार्ड उत्पादन प्रदेश के चारों सहकारी शक्कर कारखानों में सबसे अधिक है। शक्कर कारखाना पण्डरिया में 14 फरवरी 2020 को एक ही दिन में तीन हजार 600 क्विंटल शक्कर का उत्पादन किया गया है। इसके पहले प्रदेश का तीसरा कारखाना मां महामाया सहकारी शक्कर कारखाना केरता-सूरजपुर में शक्कर की सबसे अधिक औसत रिकवरी वर्ष 2012-13 में 10.36 हुई थी।

लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना पंडरिया के प्रबंध संचालक श्री दिलीप जायसवाल से प्राप्त जानकारी के अनुसार यहां वर्ष 2019-20 के चालू सीजन में शक्कर की औसत रिकवरी 10.40 हो चुकी है जो छत्तीसगढ़ में सर्वाधिक है। इसके अलावा शक्कर कारखाना पंडरिया में 2 करोड़ 10 लाख रुपये का बिजली उत्पादन कर उसे बेचा गया है। उल्लेखनीय है कि राज्य में चार सहकारी शक्कर कारखाना भोरमदेव सहकारी शक्कर कारखाना कवर्धा, मां दंतेश्वरी शक्कर कारखाना बालोद, मां महामाया सहकारी शक्कर कारखाना केरता-सूरजपुर और लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना पंडरिया संचालित है। शक्कर कारखाना पंडरिया से कवर्धा जिले के विकासखण्ड पण्डरिया और मुंगेली जिले के विकासखण्ड लोरमी के अंतर्गत करीब 300 ग्रामों के आठ हजार से अधिक गन्ना उत्पादक किसान लाभान्वित हो रहे हैं।के लगातार सकारात्मक पहल के परिणामस्वरूप हासिल हुई है। गौरतलब है कि प्रदेश का चौथा शक्कर कारखाना लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना पंडरिया के द्वारा वर्ष 2019-2020 में चालू सीजन के दौरान 79 दिन में 1 लाख 49 हजार 168 मीटरिक टन गन्ना की पेराई की गई है, जिसमें 1 लाख 53 हजार 575 क्विंटल शक्कर का उत्पादन किया गया है जिसकी औसत रिकवरी चालू सीजन में 10.40 आयी है। यह रिकार्ड उत्पादन प्रदेश के चारों सहकारी शक्कर कारखानों में सबसे अधिक है। शक्कर कारखाना पण्डरिया में 14 फरवरी 2020 को एक ही दिन में तीन हजार 600 क्विंटल शक्कर का उत्पादन किया गया है। इसके पहले प्रदेश का तीसरा कारखाना मां महामाया सहकारी शक्कर कारखाना केरता-सूरजपुर में शक्कर की सबसे अधिक औसत रिकवरी वर्ष 2012-13 में 10.36 हुई थी। लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना पंडरिया के प्रबंध संचालक श्री दिलीप जायसवाल से प्राप्त जानकारी के अनुसार यहां वर्ष 2019-20 के चालू सीजन में शक्कर की औसत रिकवरी 10.40 हो चुकी है जो छत्तीसगढ़ में सर्वाधिक है। इसके अलावा शक्कर कारखाना पंडरिया में 2 करोड़ 10 लाख रुपये का बिजली उत्पादन कर उसे बेचा गया है। उल्लेखनीय है कि राज्य में चार सहकारी शक्कर कारखाना भोरमदेव सहकारी शक्कर कारखाना कवर्धा, मां दंतेश्वरी शक्कर कारखाना बालोद, मां महामाया सहकारी शक्कर कारखाना केरता-सूरजपुर और लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना पंडरिया संचालित है। शक्कर कारखाना पंडरिया से कवर्धा जिले के विकासखण्ड पण्डरिया और मुंगेली जिले के विकासखण्ड लोरमी के अंतर्गत करीब 300 ग्रामों के आठ हजार से अधिक गन्ना उत्पादक किसान लाभान्वित हो रहे हैं।

Post a comment